मैं तो सूपरमैन, सलमान की फ़ैन; लेकिन…

ऐसा तो होता ही है…कहीं कोई ग़म माना रहा होता है, तो कोई कहीं उसी बात पर हंस रहा होता है| अभी हाल ही में जब नेपाल में आए भूकंप को लोगो ने नहीं छोड़ा तो फिर सलमान ख़ान कौन से खेत की मूली है? और फिर सही भी है, इतने साल हो गये कोर्ट के चक्कर काटते काटते, डर के रहते रहते की कहीं जेल ना हो जाए…एक बार में कहानी ख़तम करो भाई, हर बार के चक्कर और डर से छुटकारा मिले| ग़लती तो की है, सज़ा भी मिलनी ही थी| अब जितना हो सके बचने की कोशिश तो हर कोई करता ही है, क्या आपने और हमने कभी ट्रॅफिक पुलिस वाले को दो चार सौ रुपए देकर छुटकारा नही किया? तो फिर सलमान ख़ान कोई बाहरी दुनिया की चीज़ तो नहीं अपना रहा| जो इस देश मे चलता आया है, जो चल रहा है और आँकड़े देखें जायें तो चलता रहेगा… बस वही तो किया सलमान ने| फ़र्क बस हैसियत और पहुँच का है| कोई बस दो हज़ार खर्च करने की क्षमता रखता है और कोई दो हज़ार करोड़! तो फिर हम मज़ाक बना किसका रहे हैं? सलमान का या फिर खुद का?

उन लोगों के बारे में तो क्या ही कहूँ जो सड़क पर सोने वालों की तुलना कुत्तों से कर रहे हैं? भाई मेरे, यह एक कहावत है कि कुत्ते को घी हज़म नहीं होता, शायद वैसे ही तुम्हें अपने पैसे और हैसियत हज़म नहीं हो रही| एक ने तो नशे में ग़लत काम किया (शायद) और भाई तुम बिना पिये ही बकवास करने में लगे हो! वाह क्या टॅलेंट है!!! ताज्जुब होता है कभी कभी के भगवान इतना मेहेरबान हो कैसे गया तुम पर?

अब काफ़ी लोगों को मेरा “शायद” लिखना खटक रहा होगा और गुस्सा आ रहा होगा कि मैं ऐसा कैसे कह सकती हूँ, ऐसी उम्मीद मुझसे बिल्कुल नहीं थी वगेरह वगेरह…चलिए फिर, आपकी खुशी के लिए ये मान के चलते हैं कि नशे में सलमान ने ही टक्कर मारी और शायद मान लेते हैं उस उम्मीद को जिसके तेहेत नहीं मारी| खुश? तोड़ा सा भी नहीं? मिट्टी पाओ फिर…आगे बढ़ते हैं…

07-05-2015 01-24-56

तो बहुत सारे लोग इस बात से गुस्सा हैं कि सलमान अगर निर्दोष था तो भागा क्यूँ? अब सब ये बोल ही रहें हैं कि वो नशे में था, जब नशा उतरा तो वापस भी आया ना? और तब से हर वो चीज़ मान ही रहा है जो उसे क़ानून के तेहेत करनी है?
हम क्यूँ ये उम्मीद लगाए बैठे हैं कि सलमान या और कोई भी अभिनेता/ अभिनेत्री एक निपुण इंसान है? ग़लतियाँ तो होंगी हर किसी से होंगी, कुछ माफी के लायक होती हैं और कुछ सज़ा के| हम सब ग़लतियाँ करते हैं और फिर सज़ा से बचने की भी पूरी कोशिश करते हैं| सलमान ने क्या नया किया?
मैं सिर्फ़ ये समझने की कोशिश कर रही हूँ कि इतने सालों से जो वो “बींग ह्यूमन” कहता आ रहा है उसका मतलब क्या है?
शायद यही कि वो भी इंसान है! ग़लती करी, बचने की भी पूरी कोशिश करी…पर जब सज़ा मिलेगी तो भुगतेगा भी|

मैने ये भी सुना कि कुछ लोग विरोध करने के लिए सड़कों पर उतरने की बात भी कर रहे थे| अब ये सुन के उन सब लोगों पर हँसी आई जो सलमान की मूर्ति पूजा करते हैं शायद| सलमान के बहुत से फ़ैन उदास हैं, पर उदासी का मतलब ये नहीं कि वो ये नहीं समझते की सलमान से शायद ग़लतियाँ हुई हैं| इस बात पर भी कई लोगों में आक्रोश है| भाई अब इंसान उदास भी ना हो?

मैं सलमान की फ़ैन हूँ, पर इसका मतलब ये नहीं है कि मैं ये नहीं चाहती कि उसे ग़लती की सज़ा ना मिले| आज शायद पहली बार किसी सेलेब्रिटी के लिए प्रार्थना की| इसलिए नहीं कि उसके गुनाह माफ़ हो जायें, पर इसलिए कि उसके गुनाहों की सज़ा मुक़र्रर करते वक़्त उसने जो थोड़े बहुत अच्छे काम किए हैं उनकी कृपा भी उसे मिले| बहुत से ऐसे लोग हैं जो एक बार नहीं पर बार बार ग़लतियाँ करते हैं, नशे या नादानी में नहीं….जानबूझ कर| पर इस इंसान ने शायद कुछ ग़लती सुधारने की कोशिश तो की| इतना उपर वही उठता है जो बहुत ज़ोर से नीचे गिरा हो| और ऐसा उठना भी हर किसी के बस की बात नहीं है|

उम्मीद करती हूँ और पूरा भरोसा है कि सलमान कोर्ट के फ़ैसले को सम्मान के साथ अपनाएगा|

धन्यवाद!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s